• + 91 9960177529
  • ask@vivekdoba.in
Awesome Image

अब बस!!!!! "Enough Is Enough"

समय गुजर रहा है और साथ साथ जिंदग़ी भी। कब मै छोटी छोटी चीजों में हसने वाली, बिना कोई कारण मुस्कराने वाली , परी में विश्वास रखने वाली, जिंदग़ी को हस्ते खेलते जीने वाली, कब बड़ी हुयी पताही नहीं चला। घर की ज़िम्मेदारी, बच्चों की परवरिश, परिवार की देखभाल में ख़ुद को मानो भूल सी गयी। कहा मेरे सपने जो बचपन में देखे थे गुम से हो गए? कबी याद आते है कुछ पलों के लिए और फिर घर के काम में ओजल हो जाते है।कब तनाव, स्ट्रेस,डिप्रेशन जीवन का हिस्सा बने पता ही नहीं चला। पुरानी अनचाही यादें,ऐंज़ाइयटी,गिल्ट ने सारी की पल्लू की तरह दामन थामा तो मै समज ना पाहि? मानो चिंता, तनाव, पुरानी अनचाही यादें, स्ट्रेस परिवार की तरह जीवन का हिस्सा हो। इन दर्द की अनचाही आवाज़ों के पीछे सपने, वो ख़ुशी, मुस्कराहट कोणसे कोने में गुम हो गयी ? ....

        

अब बस........Enough Is Enough बहुत हो चुका।समय आ गया है- अब भागना नहीं है। फिर धुँड़ना है वो मेरे अंदर की परी को एंजल को, सपनो को पूरा करना है, जो सपने देखे थे, जो सोचा था। अब स्वयं को पाना है, इन बेकार की पुरानी यादें, स्ट्रेस तनाव से मुक्ति पाकर उस दबी दबी कही गुम हो चुकी मुस्कराहट को पाने का। ख़ुद की मनस्थिति, परिस्थित को बदलनेका।अपने विचोरो को नकारात्मकत से सकारात्मक बनाकर अपने विचारो को नियंत्रित कर कर मनचाही जिंदग़ी जीने का।" मेरी ज़िंदगी " ।सपनो को सच कर एक नयी उड़ान लेने का। लेकिन कैसे? How ?????

        

क्या यह अब सम्भव है? यह हर समय सम्भव है, मै इचलकरंजी मै एक सेमिनार ले रहा था और हमारी एक ऐक्टिविटी के बाद एक ६५ साल की महिला ने जब आकर कहा थैंक्स बेटा आज मैंने ४८ सालो के बाद डान्स किया है और मन बड़ा हल्का हल्कासा हो गया भगवान तुमे और ज़्यादा सफलता दे और वो ख़ुशी उनके चेहरे पर थी वो आज तक मै नहीं भुला हूँ, अगर वो महिला कर सकती है तो आप भी कर सकते है, सिर्फ़ सिर्फ़ एक काम करना है स्वयं से पूछे आप क्या करना चाहते हो? क्या करना चाहते हो? या क़ोनसा काम अधूरा है? जो पूरा करना चाहते हो? एक कागद ले उस पर अपने अधूरे सपने लिखे, अपने अधूरे काम लिखे और कैसे पूरा कर सकते है उसके भी कम से कम ५ ऑप्शन लिखे। क्या रोख रहा है वो भी लिखे।लिखने के बाद भी जवाब नहीं मिल रहा है। आपकी उस सच्ची ख़ुशी में कौन रोढा बन रहा है? क्या रोख रहा सफलता प्राप्त करनेसे? लिखे.....लिखे सोचे!!!!!!!!!!!फिर लिखे,,,,

Challenge your - " FEAR, DOUBTS & DISBELIEF " and see the magic in YOUR life

Vivek Doba

Trainer,Coach,Author

लिखे, डान्स करे, खेले,अपने बचपन की सहेली को कॉल करे जिससे पिछले ५-६ सालो में आप की बात ना हुयी हो। अपना मन हल्का करे, उस महिला की तरह एक बच्चा बनकर खेले ,मुस्कराहे और अपनी पसंद का गाना सुने, अपनी पसंद की डिश बनाए, जो दिल करता हो वो आज करे और ७ दिन तक एक घंटा स्वयं को दे सिर्फ़ स्वयं के लिए। फिर देखे अपने आप को एक नयी ऊर्जा के साथ। अपने परिवार, बच्चों के लिए १ घंटा स्वयं को दे और जीयो आज से ही नयी तरह से जीना। उस परी को बाहर निखाले जो बड़े सपने देखती थी और पूरा भी करती थी।

If you Need help contact 9284941277. अगर तो भी आप को जवाब नहीं मिल रहे तो आप मेरी मदत ले सकते हो। आप NLP से इस कर सकते हो। पर्सनल कोचिंग या NLP से मनचाहा लक्ष्य तो प्राप्त करकर आप अपने अधूरे सपनो को भी पूरा कर सकते हो।Join our Ladies special NLP batch hindi marathi में Imorove Your Being ...........DREAM, EVOLVE, INSPIRE ।।।Reply your valuable feedback to me on my mail id or fb page .Thanks

About Blogger

Awesome Image

Viveck Doba

Trainer & Founder

Read Comments

Aditya Raut – 01 Nov 2020

thank you for sharing information.


Add Your Comments

Your Rating

First Name*
Last Name*
Email*
Your Comments*
Choose Your Color
You can easily change and switch the colors.